प्रधानमंत्री ने चक्रवाती तूफान ‘यास’ की समीक्षा के लिए आयो‍जित बैठक की अध्यक्षता की, शुक्रवार को बंगाल और ओड़िसा का हवाई सर्वेक्षण भी करेंगे

230

यह सुनिश्चित करें कि सामान्य जनजीवन जल्द-से-जल्द बहाल हो: प्रधानमंत्री चक्रवाती तूफान ‘यास’ से निपटने के लिए एनडीआरएफ की 106 टीमों को तैनात किया गया था

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने चक्रवाती तूफान ‘यास’ के व्‍यापक प्रभावों की समीक्षा के लिए आयोजित एक बैठक की अध्यक्षता की। इस अवसर पर अधिकारियों ने चक्रवाती तूफान से निपटने की तैयारियों के विभिन्न पहलुओं, तूफान से हुए नुकसान के आकलन और संबंधित विषयों पर एक विस्तृत प्रस्तुति दी। शुक्रवार को प्रधानमंत्री तूफान पीड़ित बंगाल और ओड़िसा का हवाई सर्वेक्षण भी करेंगे।

   इस दौरान यह चर्चा की गई कि एनडीआरएफ की लगभग 106 टीमों को तैनात किया गया था। पश्चिम बंगाल/ओडिशा में से प्रत्येक में तैनात की गई 46 टीमों ने 1000 से भी अधिक व्यक्तियों की जान बचाई और 2500 से भी अधिक पेड़ों/खंभों को हटाया जो सड़कों पर गिर गए थे और जिनकी वजह से वहां आवागमन बाधित हो गया था। रक्षा बलों यथा थल सेना और तटरक्षक बल ने तूफान में विभिन्‍न स्‍थानों पर फंसे हुए लोगों की भी जान बचाई, जबकि नौसेना और वायु सेना अलर्ट पर थीं।

   वैसे तो संबंधित राज्य चक्रवाती तूफान यास की वजह से हुए नुकसान के आकलन में अभी जुटे हुए हैं, लेकिन उपलब्ध प्रारंभिक रिपोर्टों से यही पता चलता है कि सटीक पूर्वानुमान लगाने और तूफान प्रभावित क्षेत्रों के लोगों से प्रभावकारी ढंग से संवाद करने के साथ-साथ राज्यों एवं केंद्रीय एजेंसियों द्वारा समय पर लोगों की सुरक्षित निकासी करने से जान-माल का कम-से-कम नुकसान सुनिश्चित हो पाया। इसके साथ ही सैलाब या अतिवृष्टि के कारण जो नुकसान हुआ है, उसका आकलन किया जा रहा है। तूफान से प्रभावित अधिकतर क्षेत्रों में बिजली और दूरसंचार सेवाएं बहाल कर दी गई हैं।

   प्रधानमंत्री ने चक्रवाती तूफान से उत्पन्न चुनौतियों से निपटने में केंद्र और राज्यों की एजेंसियों द्वारा निभाई गई अत्‍यंत प्रभावकारी एवं सक्रिय भूमिका को रेखांकित किया और इसके साथ ही विभिन्‍न एजेंसियों को यह सुनिश्चित करने की सलाह दी कि तूफान प्रभावित क्षेत्रों में सामान्य जीवन जल्द से जल्द बहाल हो और इसके साथ ही तूफान से प्रभावित व्यक्तियों के बीच राहत का वितरण उचित रूप से हो जाए।

   प्रधानमंत्री के प्रधान सचिव, कैबिनेट सचिव, गृह सचिव, विद्युत सचिव, दूरसंचार सचिव एवं आईएमडी के डीजी और अन्य महत्वपूर्ण अधिकारियों ने इस बैठक में भाग लिया।

230 thoughts on “प्रधानमंत्री ने चक्रवाती तूफान ‘यास’ की समीक्षा के लिए आयो‍जित बैठक की अध्यक्षता की, शुक्रवार को बंगाल और ओड़िसा का हवाई सर्वेक्षण भी करेंगे

  1. Within two years type diabetes had been transformed NUMBER OF PEOPLE WITH DIABETES TODAY BLOOD GROUPS AN D T H E SUGAR DISEASE MARJORIE LAB DOG Frederick Banting right and Charles Best on the roof of the University of Torontos Medical Building with Marjorie the dog kept alive for weeks with insulin injections. Levitra En Ligne

  2. prednisone for free Then the doctor will exam your abdomen and ask questions about your symptoms and medical history such as Where is the mass located When did you notice the mass Does it come and go Has the mass changed in size or position Has it become more or less painful What other symptoms do you have A pelvic or rectal examination may be needed in some cases. Qdjrzz

  3. Pingback: 2corruption

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

केंद्र सरकार वैक्सीन खरीदने के लिए विदेशी कंपनियों को सहायता की पेशकश की है, राज्यों के भरोसे नहीं छोड़ा

Thu May 27 , 2021
भारत की टीकाकरण प्रक्रिया पर नीति आयोग ने सही स्थिति को स्पष्ट किया नई दिल्ली : भारत के कोविड-19 टीकाकरण कार्यक्रम को लेकर कई तरह के मिथक फैलाए जा रहे हैं। ये मिथक ग़लत बयानों, आधे सच और खुलेआम बोले जा रहे झूठ के कारण फैल रहे हैं। नीति आयोग में सदस्य […]

Breaking News