गंगा महासभा के द्वारा अंतर्राष्ट्रीय संस्कृति संसद का आयोजन 12-13 एवं 14 नवंबर 2021 को वाराणसी के रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर में

6

जमशेदपुर : गंगा महासभा के द्वारा अंतर्राष्ट्रीय संस्कृति संसद का आयोजन 12-13 एवं 14 नवंबर 2021 को वाराणसी के रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर में आयोजित किया जा रहा है ।  स अनूठे आयोजन में भाग लेने के लिए गंगा महासभा बिहार-झारखंड के उपाध्यक्ष धर्म चंद्र पोद्दार शीघ्र ही वाराणसी के लिए रवाना हो रहे हैं । श्री पोद्दार ने बताया कि इस अंतर्राष्ट्रीय संस्कृति संसद में देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद , प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अलावे गृह मंत्री अमित शाह समेत देश दुनिया में भारतीय संस्कृति और सभ्यता के प्रतिनिधित्व करने वाले संत-महात्मा , विद्वत जन , राजनीतिज्ञ , उद्यमी , रक्षा विशेषज्ञ , विधिवेत्ता समेत विभिन्न क्षेत्रों के नीति निर्धारकों को आमंत्रित किया गया है ।संस्कृति संसद सनातन धर्म पर उठने वाले सभी प्रश्नों के जवाब देगी एवं सामाजिक विसंगतियों पर चर्चा कर उन्हें दूर करने के उपाय किये जायेंगे । अखिल भारतीय संत समिति व श्री काशी विद्वत परिषद के संयुक्त मार्गदर्शन में होने वाला वैश्विक आयोजन अपने आप में अनूठा होगा यह खास संसद न सिर्फ सनातन धर्म व संस्कृति अपितु राष्ट्रीय व वैश्विक परिप्रेक्ष्य में समाज और धर्म का स्वरूप तय करेगी इससे निकलने वाला विमर्श देश के प्राण तत्व को आलोकित करेगा ।बताया कि हर 2 वर्ष पर आयोजित होने वाली यह चौथी संस्कृति संसद होगी। श्री पोद्दार ने बताया कि इस अंतरराष्ट्रीय संस्कृति संसद में 12 मुख्य सत्र व चार समानांतर सत्र होंगे ।तीन दिवसीय संस्कृति संसद में कुल 16 सत्र होंगे । इसमें 12 इसके मुख्य व 4 इसके समानांतर चलेंगे।इसका उद्घाटन 12 नवंबर को सुबह 10:00 बजे किया जाएगा ।

12 नवंबर : उद्घाटन सुबह 10:00 बजे

1) सनातन धर्म के अनुत्तरित प्रश्न दोपहर 1:30 बजे

2) भारत की प्राचीनतम अखंडित संस्कृति की वैश्विक छाप एवं वर्तमान परिदृश्य दोपहर 3 बजे

13 नवंबर
3) ढाई मोर्चा के युद्ध पर भारत सुबह 10:00 बजे

4) राष्ट्रीय सुरक्षा में आम नागरिकों की भूमिका सुबह 11:30 बजे

5) हिंदू होलोकास्ट : हिंदू संस्कृति पर 2000 वर्षों तक हुए हमले दोपहर 12:30 बजे

6) उपासना स्थल (विशेष उपबंध) अधिनियम 1991 एवं अन्य धार्मिक कानून धर्मनिरपेक्षता के नाम पर हिंदूओ का दमन दोपहर 2:30 बजे

7) कलयुग की प्रत्यक्ष तीर्थ मां गंगा शाम 4:00 बजे

14 नवंबर
8) राष्ट्रीय शिक्षा नीति एवं परंपरागत भारतीय शिक्षा सुबह 10:00 बजे

9) कला संस्कृति के आवरण में परोसी जा रही विकृति सुबह 11:30 बजे

10) योग : विश्व को भारत का उपहार दोपहर 12:30 बजे

11) मंदिर सामाजिक , आर्थिक एवं सांस्कृतिक गतिविधियों का केंद्र कैसे बने दोपहर 2:30 बजे

12) छद्म धर्मनिरपेक्षता के नाम पर भारतीय इतिहास के साथ वामपंथियों के षड्यंत्र दोपहर 3:30 बजे

समानांतर सत्र

13 नवंबर
1) हिंदू मंदिरों का प्रबंधन हिंदुओं के द्वारा सुबह 11:00 बजे

2) युगानुकूल आचार संहिता एवं हिंदुओं के धार्मिक निर्णय दोपहर 3 बजे

14 नवंबर
3) भारत के प्रत्येक संप्रदाय को शिक्षण एवं सांस्कृतिक संस्थानों के संचालन की स्वतंत्रता सुबह 11:00 बजे

4) एक देश एक विधान , हमारा देश हमारे कानून दोपहर 3:00 बजेय छछेह जानकारी गंगा महासभा बिहार-झारखंड के द्वारा जारी की गयी एक विज्ञप्ति में दी गई है ।

 

6 thoughts on “गंगा महासभा के द्वारा अंतर्राष्ट्रीय संस्कृति संसद का आयोजन 12-13 एवं 14 नवंबर 2021 को वाराणसी के रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर में

  1. Pingback: click now
  2. Pingback: 2simpleton
  3. Pingback: Devops services

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

भाजपा नेता राजेश शुक्ला ने छठ घाटों का किया दौरा, सफाई कार्य मे किया सहयोग

Tue Nov 9 , 2021
जमशेदपुर : प्रदेश भाजपा के वरिष्ठ नेता और वरीय अधिवक्ता राजेश कुमार शुक्ल ने आज छठ पर्व के लिए घाटों का दौरा किया तथा बेहतर व्यवस्था के लिए जुस्को और जिला प्रशासन से आग्रह किया। शुक्ल ने बिस्टुपुर , कदमा, मानगो और जुगसलाई के घाटों का जायजा लिया और श्रद्धालुओं […]

Breaking News